Breaking News :
Home » » प्रदेश में 5% छात्र नहीं देते परीक्षा, 8वीं तक की परीक्षाओं में गैरहाजिर रहने वालों में मेवात के छात्र सबसे आगे

प्रदेश में 5% छात्र नहीं देते परीक्षा, 8वीं तक की परीक्षाओं में गैरहाजिर रहने वालों में मेवात के छात्र सबसे आगे

Written By Smart Edu Services on सोमवार, 26 दिसंबर 2016 | 7:30 pm

8वीं तक की परीक्षाओं के दौरान गैरहाजिर रहने के मामले में मेवात जिले के छात्र सबसे आगे हैं। जहां करीब 17 फीसदी विद्यार्थी परीक्षा में शामिल ही नहीं होते। वहीं यमुनानगर के 2 फीसदी छात्र परीक्षा नहीं देते। एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) की मार्च और सितंबर 2016 की परीक्षाओं पर सर्वे रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा के सरकारी स्कूलों में पहली से 8वीं तक की कक्षाओं में करीब 18 लाख 62 हजार 33 छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। इनमें औसतन 17 लाख 61 हजार 41 छात्र एग्जाम देने पहुंचे। यह कुल छात्रों का 95 फीसदी है। मेवात के 17 फीसदी छात्र एग्जाम के देने स्कूल नहीं जाते। यहां 158786 छात्र हैं। दूसरे नंबर पर पलवल के छात्र हैं। यहां 91848 छात्र हैं, जिसमें से 8 फीसदी छात्र एग्जाम देने नहीं जाते। फरीदाबाद के 87083 छात्रों में से 8 फीसदी छात्र एग्जाम देने नहीं जाते, यह तीसरे नंबर पर है। गुड़गांव के छात्रों ने इस मामले में चौथा स्थान पाया। यहां 99369 छात्र हैं, जिनमें से 6% छात्र एग्जाम से नदारद रहे। सिरसा के 124651 छात्रों में से 5% पानीपत के 77070 में से 5%, फतेहाबाद के 90480 में से 5% छात्र एग्जाम नहीं देते। सोनीपत के 91091 तथा अम्बाला के 70340 छात्रों में से 97 फीसदी छात्र एग्जाम में अपीयर होते हैं। सबसे अधिक यमुनानगर के 81330 छात्रों में से सर्वाधिक 98 फीसदी छात्रों ने एग्जाम दिए। 
एससीईआरटी की रिपोर्ट में खुलासा : सबसे ज्यादा यमुनानगर के छात्र पहुंचते हैं परीक्षा देने जबकि मेवात में सबसे कम|
Share this post :

टिप्पणी पोस्ट करें