Breaking News :
Home » , » विभागों के बीच आपसी तालमेल न होने के चलते विद्यार्थी से लेकर शिक्षक सभी परेशान

विभागों के बीच आपसी तालमेल न होने के चलते विद्यार्थी से लेकर शिक्षक सभी परेशान

Written By Smart Edu Services on सोमवार, 14 सितंबर 2015 | 11:15 pm

बवानीखेड़ा : विभागों के बीच आपसी तालमेल न होने के चलते विद्यार्थी से लेकर शिक्षक सभी परेशान है। पंचायत चुनाव और हरियाणा शिक्षा बोर्ड परीक्षा का साथ साथ आना। दसवीं और बारहवीं के पहले सेमेस्टर एग्जाम 29 सितंबर से शुरू हो रहे हेै। 10वीं के एग्जाम चुनाव के ठीक एक दिन बाद है। ऐसे में जिस स्कूल मे पोलिंग बूथ होगा, वहां अगले दिन एग्जाम करवाना संभव नही होगा।  कैसे देंगे परीक्षा
वही चुनाव का नामांकन भी 15 सितंबर से 19 सिंतबर तक चलेगा। ऐसे में स्टूडेंट्स को परेशानी का सामना करना पडेगा। पंचायत चुनाव के लिए 15 से 19 सितंबर से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो रही है। जहां पर पोलिंग बूथ होगा, वहीं पर नामाकंन कर सकते हेै। 21 को नामांकन की जांच होगी, जबकि 24 तक नाम वापस लिया जा सकेगा और चुनाव चिन्ह वितरित किए जाएंगंे। ऐसे जब विद्यार्थी के रिविजन का समय होता है, तब गावों में स्थित स्कूलों के बच्चें पढाई नहीं कर पाएंगेद्ध 4 अक्टूबर को वोटिंग भी है। 5 को दसवीं का गणित का एग्जाम है और 3 को बारहवीं का एग्जाम हैं। चुनाव से दो दिन पूर्व पोलिंग अधिकरी बूथ पर पहुचतें हैं। साथ ही चार को वोटिंग के बाद गिनती भी है। ऐसे में 5 को एग्जाम करवा पाना स्कूलों के लिए मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी होगा।
बोर्ड की लापरवाही छात्रों पर भारी
हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के 10वीं और 12वीं क्लास के सेमेस्टर एग्जाम 29 सितंबर से 21 अक्टूबर तक चलेगे। इसके साथ ही अक्टूबर माह में ही हरियाणा पात्रता परीक्षा की संभवना है। लेकिन अब प्रदेश सरकार ने पंचायत चुनाव के लिए 4,11 व 18 अक्टूबर की डेट घोषित कर दी है। इन तीनों तारिकों के दौरान शिक्षा प्रशासन ने परीक्षाएं भी निर्धारित की हुई है। जिन स्कूलों में पोलिंग बूथ बनाए जाने हैं वही पर परीक्षा केंन्द्र भी बनाए हुए है। फिलहाल ये है शेड्यूल प्रथम चरण की पोलिंग 4 अक्टूबर को है जबकि 3 को बारहवीं कक्षा को पेपर है। 5 को दसवीं और बारहवीं कक्षा को एग्जाम है।
परीक्षाएं स्थगित की
सरकार ने चुनावों की घोषणा के दृष्टिगत सहायक आयुक्त, अतिरिक्त सहायक आयुक्त तथा सिविल परीक्षाएं तथा विभिन्न सरकारी विभागों के अधिकारियांे की होने वाली परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई है। शिक्षकों का कहना है कि बोर्ड को पहले इस बात पर ध्यान देना चाहिए, इससे न केवल छात्र बल्कि शिक्षक भी प्रभावित होंगे।                                                                                        
Share this post :

टिप्पणी पोस्ट करें